REET 2022: मनोविज्ञान मॉडल पेपर-1 मनोविज्ञान के उपयोगी प्रश्न REET दोनों लेवल के लिए

REET 2022: मनोविज्ञान मॉडल पेपर-1 मनोविज्ञान के उपयोगी प्रश्न REET दोनों लेवल के लिए उपयोगी प्रश्न जरूर टेस्ट देवें  रीट एवं द्वितीय श्रेणी अध्यापक परीक्षा 2022 के लिए निशुल्क टेस्ट , मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न रीट तथा द्वितीय श्रेणी अध्यापक भर्ती परीक्षा 2022 के लिए, PSYCHOLOGY IMPORTNAT QUESTIONS, REET 2022 PSYCHOLOGY QUIZ, REET 2022 MANOVIGYAN KE PRASHN, REET FREE PSYCHOLOGY TEST SERIES,  Psychology Free Test Modal Paper-1 For REET 2022, 

REET 2022: मनोविज्ञान मॉडल पेपर-1 यह मोडल टेस्ट पेपर रीट 2022 को ध्यान में रखकर बनाया गया है इससे आपको रीट 2022 में मनोविज्ञान के किस प्रकार के प्रश्न आयेंगे इनकी जानकारी प्राप्त होती एवं REET 2022: मनोविज्ञान मॉडल पेपर-1 के माध्यम से रीट लेवल 1 एवं 2 की बेहतर तैयारी आप कर सकेंगे

  1. REET 2022: मनोविज्ञान मॉडल पेपर-1 में कुल 30 प्रश्न दिए गए है 
  2. सभी प्रश्न समान अंक के है. 
  3. कुल 60 अंको का प्रश्न प्रत्र है
  4. गलत प्रश्न के लिए आपके 1 अंक कटा जायेगा एवं सही प्रश्न के आपको 2 अंक प्रदान किये जायेंगे  
REET 2022: मनोविज्ञान मॉडल पेपर-1
1/30
"विकास व्यक्ति में नवीन विशेषताएँ तथा योग्यताएँ प्रस्फुटि करता है।" यह कथन है-
हरलॉक
मैक्डूगल
जेम्स ड्रेवर
मुनरो
2/30
आर. सी. ई. एम. द्वारा उद्देश्यों का वर्गीकरण और मानसिक प्रक्रियाएँ निम्न है-
ज्ञान, समझना, प्रयोग, सृजनात्मक
ज्ञान, समझना, प्रयोग, सृजनात्मक, विश्लेषण ।
प्रयोग, सृजनात्मक, ज्ञान
विश्लेषण, ज्ञान, समझना
3/30
एफ.आई.ए.सी.एस. के साथ मूल रूप से कौन सम्बन्धित है-
हर्बर्ट
मॉरिसन
फ्लैण्डर
लिपिट
4/30
शिक्षण एक प्रक्रिया है-
शिक्षक द्वारा अधिगमकर्ता को ज्ञान के स्थानान्तरण की
अधिगम को निर्देशित करने की
अनुदेशन देने की
शिक्षण अधिगम का सरलीकरण करने की
5/30
"मोटे तौर पर बाल अपराध शब्द किसी कानून के भंग किये जाने का उल्लेख करते हैं" यह परिभाषा किस मनावैज्ञानिक ने प्रस्तुत की है
वेलेन्टाईन
गुडविन
स्किनर
गुड
6/30
निम्न में से कौन-सी संस्था प्रशिक्षण नियमावली तथा कार्यक्रमों का विकलांगता पुनर्वास के क्षेत्र में भारत में क्रियान्वयन करता है?
राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद्
राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय
राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद
भारतीय पुनर्वास परिषद
7/30
प्रतिभावान बालकों की पहचान करने के लिए हमें सबसे अधिक महत्त्व -
अभिभावकों के मत को देना चाहिए।
वस्तुनिष्ठ परीक्षणों के परिणाम को देना चाहिए।
शिक्षक के निर्णय को देना चाहिए।  समुदाय के विचारों को देना चाहिए।
समुदाय के विचारों को देना चाहिए।
8/30
राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा, 2005 में बहुभाषा को एक संसाधन के रूप में समर्थन दिया गया है क्योंकि
यह एक तरीका है जिसमें प्रत्येक बालक सुरक्षित महसूस करे
भाषागत पष्ठभूमि के कारण कोई भी बालक पीछे न छट जाये
यह बालकों को अपने पर विश्वास के लिये प्रोत्साहन देगा।
उपर्युक्त सभी
9/30
"हमारे पाठ स्थूल से प्रारम्भ होकर सूक्ष्म में समाप्त होने चाहिये।" यह किसने कहा है
रविन्द्र नाथ टैगोर
स्पेन्सर
महात्मा गाँधी
अरस्तू
10/30
निम्न में से कौन-सी पिछड़े हुये बालकों की विशेषता नहीं है?
अपनी प्रकृति प्रदत्त योग्यताओं से कम स्तर की शैक्षिक उपलब्धि का प्रदर्शन करते हैं।
सामान्य विद्यालयी कार्य के साथ वे गति नहीं रख पाते।
अपनी आयु के बालकों से काफी पिछड़ जाते हैं।
कम बुद्धि रखते हैं।
11/30
प्रगतिशील परिवारों के बच्चों में अपेक्षाकृत कौन सा प्रेरक अधिक प्रबल होता है?
सम्बन्धन
जिज्ञासा
उपलब्धि
आक्रामकता
12/30
निम्न में से कौन-सा डेनियल गोलमैन द्वारा प्रतिपादित संवेगात्मक बुद्धि का आयाम नहीं है?
स्व-जागरुकता
स्व-सामर्थ्य
स्व-प्रबन्धन
सामाजिक कौशल
13/30
बहुबुद्धि के सिद्धान्त' के संदर्भ में एयरफोर्स पायलट बनने के लिए निम्नलिखित में से कौनसी बुद्धि की आवश्यकता है
अन्त:वैयक्तिक
भाषिक
गतिक
अन्तरार्वैयक्तिक
14/30
'प्रतिभाशाली बालक वह है जो अपने उत्पादन की मात्रा, दर तथा गुणवत्ता में विशिष्ट होता है। यह कथन दिया गया है -
टर्मन एवं ओडन द्वारा
कैरल एवं मार्टिन्स द्वारा
आर.डब्ल्यू.टेलर द्वारा
इनमें से कोई नहीं
15/30
एक सन्तुलित व्यक्तित्व वह है जिसमें
इदम् एवं परम अहम् के बीच सन्तुलन स्थापित किया जाता है
इदम् एवं अहम् के बीच सन्तुलन स्थापित किया जाता है।
अहम् एवं परम अहम् के बीच सन्तुलन स्थापित
मजबूत अहम् को बनाया जाता है।
16/30
"व्यक्तित्व सीखने योग्य व्यवहारों का आदर्श संग्रह है" यह किसका कथन है
ब्रूनर
स्कीनर
पियाजे
फ्रॉयड -
17/30
संज्ञानात्मक विकास की निम्नलिखित अवस्थाओं में से कौन-सी अवस्था का वर्णन ब्रूनर द्वारा नहीं किया गया है?
अधिनियम (Eactive)
प्रतिभापरकता (lonic)
पराधीनता (Heteronomy)
सांकेतिकता (Symbolic)
18/30
शिक्षार्थियों में वैयक्तिक भिन्नताओं को सम्बोधित करने के लिए विद्यालय किस प्रकार का सहयोग उपलब्ध करवा सकता है?
बाल-केन्द्रित पाठ्यचर्या का पालन करना और शिक्षार्थियों को सिखने के लिए अनेक अवसर उपलब्ध करवाना
शिक्षार्थियों में वैयक्तिक भिन्नताओं को समाप्त करने के लिए हरसम्भव उपाय करना।
धीमी गति से सीखने वाले शिक्षार्थियों को विशेष विद्यालयों में भेजना।
सभी शिक्षार्थियों के लिए समान स्तर की पाठ्यचर्चा का अनुगमन करना।
19/30
व्यक्तिगत विभिन्नता का सम्मान करते वक्त, एक शिक्षक से क्या आशा नहीं की जा सकती है?
योग्यतानुसार समूह में विभक्त करना
पाठ्यचर्या को समायोजित करना
बच्चों को स्वाध्याय के लिए छोड़ देना
शिक्षण विधियों को समायोजित करना
20/30
पावलाव क प्रयोग में, कुत्ता न केवल मांस प्रदाता के मांस सीधे मुँह में रखने से लार टपकाता है, किन्तु इससे पहले भी अर्थात् जब सीढ़ियों से नीचे आने वाले प्रशिक्षक के कदमोंकीआवाज सुनता है। इस संवृत्ति को कहा जाता है
विलोपन
बिना शर्त प्रोत्साहन
अनुकूलित उत्तेजना
तत्परता
21/30
जीन पियाजे के संज्ञानात्मक सिद्धान्त के अनुसार संरक्षण के नियम की समझ विकसित होती है
संवेदी गामक स्तर पर
मूर्त संक्रियात्मक स्तर पर
पूर्व-संक्रियात्मक स्तर पर
औपचारिक संक्रियात्मक स्तर पर
22/30
"किशोरावस्था वह काल है जिसमें बालक और बालिका मानसिक, भावनात्मक, सामाजिक और शारीरिक रूप से बाल्यावस्था से वयस्कता की ओर बढ़ते हैं।" यह किसने कहा है-
जीन पियाजे
डोर्थी रोजर्स
जरसील्ड
जे.ए. हेडफील्ड
23/30
"सीखने का पठार सीखने की प्रक्रिया के मुख्य अभिलक्षण है, जो उस स्थिति को प्रकट करते हैं,जिसमें सीखने की प्रक्रिया में कोई उन्नति नहीं होती।"यह कथन किसका है
हालिंगवर्थ
गेट्स व अन्य
स्किनर
रॉस
24/30
स्थानान्तरण एक परिस्थिति में अर्जित ज्ञान प्रशिक्षण और आदतों का किसी दूसरा परिस्थिति में स्थानान्तरण किए जाने की चर्चा करता है। प्रशिक्षण (अधिगम) के स्थानान्तरण के बारे में कथन संबंधित है
क्रो एवं क्रो
पीटरसन
सोरेंसन
चार्ल्स जूड
25/30
बाल्यावस्था को 'मिथ्या परिपक्वता' का काल माना है-
किलपैट्रिक
बेंथम
कोल व ब्रूस
रॉस
26/30
एरिक्सन के अनुसार कौन सी अवस्था में बालक अधिक पहल करता है, लेकिन बहुत सशक्त भी हो सकता है, जो गेप भावनाओं की ओर ले जा सकता है
18 माह से 3 वर्ष तक
3 से 5 वर्ष तक
6 से 12 वर्ष तक
किशोरावस्था
27/30
“अधिगम प्रक्रिया से तात्पर्य बालक में उपयुक्त व्यावहारिक क्रियाओं द्वारा व्यवहार में परिवर्तन  लाना है।" यह परिभाषा किसने दी
गिलफोर्ड
किंग्सले
एडवर्ड टोलमेन
उपर्युक्त में से कोई नहीं
28/30
बाल्यावस्था को जीवन का निर्माणकारी काल माना है
किलपैट्रिक
बेंथम
कोल व ब्रूस
सिगमंड  फ्रायड
29/30
मानव विकास होता है?
मात्रात्मक (Quantitative)
गुणात्मक (Qualitative)
एक सीमा तक अमानवीय ।
मात्रात्मक एवं गुणात्मक दोनों
30/30
तुलसीदास जी द्वारा अपनी पत्नी रत्नावली द्वारा व्यंग्यात्मक शब्दों के कारण अपना सम्पूर्ण मनोयोग साहित्यिक क्षेत्र में लगाकर महान व्यक्तित्व बनना उदाहरण है -
शोधन
मार्गान्तीकरण
उदात्तीकरण
उपर्युक्त सभी
Result:

नोट- यह DHEER SINGH SIR / VANDANA JADON MAM की अधिकारिक WEBSITE नहीं है, यह पर जो टेस्ट उपलब्ध करवाये जाते है वह मैडम के नोट्स और विडियो से बनाये गए है 

मैडम का कोर्स लेने के लिए  क्लिक करे-  

क्लिक करे 

DHEER SIGH SIR  KA COURSE LENE KE LIYE AVNI EDUCATION APP DOWNLOAD KARE 

THANKYOU 

Leave a Comment

x